इस तरह खाते हैं शहद तो तुरंत बंद कर दें, वरना फायदे की जगह हो सकता है नुकसान

Spread the love

शहद में सेहत का खजाना होता है।  इसके सेवन से कई तरह की समस्याएं दूर हो सकती हैं. आयुर्वेद में भी इसके महत्व को बताया गया है।  शहद के सेवन से संपूर्ण शरीर को फायदा मिलता है।  मधुमक्खी के छत्ते से निकाला गया ताजा शहद वेट लॉस के लिए फायदेमंद होता है। वहीं, पुराना शहद फैट को काटने का काम करता है. इससे कफ की समस्या भी दूर होती है. कुछ लोग किसी तरह से शहद का सेवन करते हैं, जो हानिकारक हो सकता है। ऐसे में आइए जानते हैं शहद को किस तरह से इस्तेमाल करना चाहिए…

आयुर्वेद में शहद

आयुर्वेद में शहद को योगवाही भी कहा जाता है, जो सबसे गहरे ऊतकों में प्रवेश कर सकता है।  इसमें कई तरह के औषधीय गुण पाए जाते हैं. जो शरीर के लिए बेहद फायदेमंद होता है। आयुर्वेदिक ऋषि चरक ने 5 हजार साल पहले ही शहद के गुणों के बारें में बता दिया था. इसके इस्तेमाल पर उन्होंने विस्तार से लिखा है. शहद को कई मायनों में सेहत के लिए अमृत की तरह बताया गया है।

शहद का इस्तेमाल कैसे नहीं करना चाहिए
1. शहद को कभी भी गर्म भोजन या पानी में मिलाकर सेवन नहीं करना चाहिए।
2. गर्म वातावरण में काम करने वालों को शहद का सेवन नहीं करना चाहिए।
3. कभी भी शहद को घी के साथ या गर्म, मसालेदार भोजन के साथ मिलाने से बचना चाहिए।
4.  व्हिस्की, रम, ब्रांडी या सरसों के साथ कभी भी शहद मिलाकर सेवन नहीं करना चाहिए।
5. शहद को गर्म पानी में मिलाकर कभी भी सेवन नहीं करना चाहिए. इसके कई गंभीर परिणाम हो सकते हैं।

शहद खाने सही तरीका क्या है
1. वजन कम करना है तो एक गिलास गुनगुना पानी में एक चम्मच शहद मिलाकर सेवन करना चाहिए।
2. सर्दी, खांसी, साइनसाइटिस या इम्यून सिस्टम बढ़ाने के लिए शहद, हल्दी और काली मिर्च एक-एक चम्मच मिलाकर सेवन करना चाहिए।

Samachaar India

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *